दिल्ली

लक्ष्मी नगर के दुकानदार दहशत में बेनूर हुई लक्ष्मी नगर मार्केट।

लक्ष्मी नगर मेन बाजार की रौनक देखते ही बनती थी। एमसीडी की भारी तबाही कार्रवाई के बाद पूरे बाजार को बर्बाद के रूप में देखा जा रहा है। ट्रक के माध्यम से जेसीबी मशीन से दुकानों को तोड़ा जा रहा है। विकास मार्ग से लेकर लवली पब्लिक स्कूल तक के करीब 400 दुकानदार सहमे हुए हैं ईडीएमसी ने 1 जून के बाद नक्शे के हिसाब से फिर तोड़फोड़ का ऐलान कर दिया है। 10-11 मई को लक्ष्मी नगर  मेन बाजार में एमसीडी बुलडोजर चला जिसकी जद में लगभग 250 दुकानें थीं।
यह कार्रवाई शाहदरा साउथ के डिप्टी कमिश्नर बीएम मिश्रा के दौरे के दो दिन बाद हुई। डिप्टी कमिश्नर की यात्रा बाजार में अतिक्रमण के आदेश के बाद क्षेत्र के विकास के लिए की गई थी और इसे हटाने का आदेश दिया गया था। इसके बाद विजय चौक से स्टेट बैंक तक विचलन की प्रक्रिया के दौरान कई दुकानों को डबल शटर मिल गए क्योंकि दुकानदारों ने दुकानों को आगे रखा और पुराने शटर वहां रहे और इसे घेर लिया और एक नया शटर स्थापित किया।
सड़क चौड़ी खुली है जबकि बिजली टेलीफोन और दिल्ली पुलिस द्वारा स्थापित सीसीटीवी के खंभे सड़क पर खड़े हैं। मुद्दा यह है कि सड़क के 80 फुट होने की बात कही गई है जिसकी वजह से कारोबारी टेंशन में हैं। अगर इस पर अमल हुआ तो फिर दोनों ओर की दुकानें आधी से भी कम रह जाएंगी।लक्ष्मी नगर ट्रेडर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रद्युम्न कुमार जैन ने कहा कि दुकानदारों को आगे की जगह पर कब्जा करने की जरूरत इसलिए पड़ी क्योंकि वहां ठेले और रेहड़ी-पटरी वाले खड़े हो जाते थे
एसोसिएशन के महासचिव चौधरी प्रेमजीत सिंह ने कहा कि हम एमसीडी से 33 फुट की सड़क पर लीगलाइज कर दे जो हमारे कागजों में दर्ज है। विकास मार्ग से विजय चौक में लगभग 80 दुकानें हैं और सड़क लगभग 25 फीट है। दुकानदार दावा करते हैं कि उनके पास उनकी रजिस्ट्री है। एमसीडी सहायक आयुक्त डॉ एमएल शर्मा ने कहा कि विकास मार्ग से विजय चौक तक का रोड मैप 80 फीट कम दिखा रहा है जो नक्शे पर स्पष्ट नहीं है। लेकिन यह भी निश्चित है कि यह 25 फीट भी नहीं है।
केंद्रीय संसदीय कार्य राज्यमंत्री और दिल्ली बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष विजय गोयल ने मंगलवार को लक्ष्मी नगर क्षेत्र का दौरा किया और वहां व्यापारियों की समस्याओं को सुना। इस क्षेत्र में बड़े पैमाने पर अतिक्रमण वापस ले लिया गया था और क्षेत्र में बुलडोजर चलाया गया है। व्यापारियों के अनुरोध पर गोयल विजय चौक और आसपास के क्षेत्र का दौरा किया।