दिल्ली

MCD सील होंगे रिहायशी इलाकों में बने कमर्शल बेसमेंट।

MCD ने क्षेत्रीय कार्यालय से रिपोर्ट तैयार करने को कहा।

MCD सीलिंग की तलवार अब रिहायशी इलाको के कमर्शल बेसमेंटो पर है जहां बेसमेंट का गोदाम और कमर्शल का इस्तेमाल लिया जा रहा होगा। तो उसे अगले महीने ने MCD सील करेगी।जॉन के जोनल कार्यालय को कहा गया है की रेजिडेंशल इलाको में जो आवेद एक्टिविटीज़ की डिटेल रिपोर्ट तैयार करने को कहा गया है।
MCD के एक सीनियर अफसर के अनुसार दिसंबर 2010 में कमर्शल बाजारों में ऐसी प्रॉपर्टी को सील किया गया था। जिसका कन्वर्जन चार्ज दुकान दारो ने जमा नहीं किया था। और हजारो दुकानों को सील किया गया था फ़िलहाल अभी तो रेजिडेंशल एरिया के पार्किंग में बने अवैध निर्माण के खिलाफ एक्शन चल रहा है। लेकिन अब मॉनिटरिंग कमिटी की मीटिंग में बार बार रेजिडेंशल बने इलाको में बेसमेंटो का कमर्शल इस्तेमाल किया जा रहा है इस मुद्दे पर बात चल रही है
और मीटिंग के बाद कमिटी ने MCD अफसरों को इस पुरे मामले की हरी झंडी देदी है लेकिन अब सिर्फ जोनल अफसरों को अंतिम परिपत्र का ही इंतिजार है। और MCD अफसरों के मुताबिक रेजिडेंशल इलाको में चल रहे अवैध बेसमेंट का गलत इस्तेमाल करने पर MCD सीलिंग लगाना राजेंद्र नगर से शुरुआत  कर सकती है।
क्योंकि यहां से कमर्शल बेसमेंटो की सबसे ज्यादा शिकायते अति है मॉनिटरिंग कमिटी के पास जिन 45 रिफ्यूजी कॉलोनियों के 12 हजार अवैध निर्माणों की लिस्ट है इन लिस्ट में कम से कम 3-4 हजार तो बेसमेंट ही है जॉन के अफसरों से अपनी रिपोर्ट में कुछ इस बात का भी उल्लेख करने के लिए कहा गया है की मकान मालिक इन बेसमेंटो का इस्तेमाल किस मकसद सें कर रहे है MCD की मई के पहले हफ्ते में ही सीलिंग की पूरी तैयारी है।