दिल्ली

दिल्ली के सरकारी स्कूलों के बच्चे भी अब बोल सकेंगे इंग्लिश।

पहले फेज में 24000 स्टूडेंट्स को मिलेगा मौका

दिल्ली के सरकारी स्कूलों के बच्चे भी अब बोल सकेंगे इंग्लिश। एजुकेशन रिफॉर्म्स को आगे बढ़ाते हुए  दिल्ली सरकार ने सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे छात्रों के इंग्लिश सही से पढ़ने के लिए एक नई योजना तैयार की है। उन छात्रों के लिए जिन्होंने पहले से ही दसवीं कक्षा के लिए बोर्ड परीक्षा दी है, स्पोकन इंग्लिश कक्षा कार्यक्रम पहले फेज  में स्पोकन इंग्लिश क्लासेज प्रोग्राम शुरू किया जा रहा है 1 जून से शुरू होंगी और उनके लिए प्रशिक्षण केंद्र 393 स्कूलों में स्थापित किए जाएंगे। सूत्रों के मुताबिक, सरकार कई एजेंसियों से बातचीत कर रही है जिसमें मैकमिलन पब्लिशर्स ब्रिटिश काउंसिल ऑफ इंडिया अकादमी फॉर कंप्यूटर्स ट्रेनिंग गुजरात शामिल हैं।
कोर्स की कुल अवधि 160 घंटे होगी और ये कक्षाएं 23 से 80 दिन होंगी। पहला चरण गर्मी की छुट्टियों में नियमित कक्षाओं के 5 से 7 घंटे के साथ होगा। दूसरे चरण में 2 से 3 घंटे कक्षाएं होंगी। एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा कि ये कक्षाएं अब उन छात्रों के लिए उपलब्ध होंगी जिन्होंने बोर्ड परीक्षा उत्तीर्ण की है और जिन लोगों ने प्री-बोर्ड परीक्षा में अंग्रेजी समेत कम से कम दो और विषयों को पारित किया है, उन्हें इन कक्षाओं में भाग लेने का मौका मिलेगा।
पहले  फेज में 24000 छात्रों का सिलेक्शन होगा और सिलेक्शन पहले आओ पहले पाओ के आधार पर किया जाएगा। यदि पूर्व बोर्ड के छात्रों ने अंग्रेजी सहित सभी विषयों को पास किए होंगे तो ऐसे छात्रों को प्राथमिकता मिल जाएगी। सूत्रों के मुताबिक प्रिंसिपल को दसवीं परीक्षा  दे चुके स्टूडेंट्स छात्रों को फोन एसएमएस के माध्यम से इस योजना के बारे में जानकारी देने की ज़िम्मेदारी होगी। स्कूल प्रबंधन समिति की मदद भी की जा सकती है ताकि वे इस जानकारी को छात्रों तक यह जानकारी पहुंचाएं।
माता-पिता से एनओसी लेना आवश्यक होगा। उसके बाद प्रिंसिपल उन छात्रों की सूची विभाग को भेजेंगे। इस कार्यक्रम के लिए कुछ शुल्क भी निर्धारित किए जाएंगे। रजिस्ट्रेशन की सामग्री और असाइनमेंट भी पंजीकृत छात्रों को दिया जाएगा और कोर्स पूरा करने के बाद प्रमाण पत्र दिए जाएंगे।