लखनऊ

बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और साथियों ने किया महिला का रेप।

महिला और परिवार ने बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और कुलदीप के साथियों पर गेंग रेप का आरोप लगाकर महिला अपने परिवार के साथ रविवार को CM योगी आदित्यनाथ के घर के सामने आत्मा हत्तिया की कोशिश  करने वाली लड़की के पिता की सोमवार को संदेहात्मक हालत में उन्नाव जिला के हॉस्पिटल में उनका देहांत हो गया। अब महिला परिवार और विपक्षी दलों ने आरोप लगाया की बीजेपी से जुड़े लोग इस घटना में शामिल है  इसलिए केस में हमारी कोई भी सुनवाई नहीं हो रही है और न कोई कार्रवाई होने दी जा रही है
मामला UP सरकार के गले में फसते देख कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा की महिला और उसके परिवार के दोषी को छोड़ा नहीं जायेगा चाहे वो कोई भी हो।महिला के पिता रविवार देर रात उन्नाव जिला की जेल में थे  जहां से उन्हें देर रत रविवार को गंभीर हालत में हॉस्पिटल लाया गया था। किशोर का आरोप है की पिता को मारा गया है क्योंकि विधायक के भाई और उसके साथियों ने मिलकर रेप के मामले की शिकायत वापस लेने के लिए पिता की 3 अप्रैल को घर में घुस कर पिटाई कर चुके है
और जब पुलिस आई तो मिलीभगत करके पुलिस से पिता जी को ही जेल भिजवा दिया महिला का आरोप ये है की CM के घर पर प्रदर्शन करने के कारण विधायक के साथियों ने जेल जाकर महिला के पिता की रविवार को पिटाई की जिस वजह से उनकी हालत गंभीर हो गई और उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। और इसी दौरान उनकी मोत हो गई। महिला  के पिता की मोत के बाद एक हड़कंप सा मच गया। हड़कंप मचने के बाद मामले की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए गए। अब ये जांच उन्नाव के डीएम करेंगे पुरे मामले में माखी उन्नाव थाने के एसएचओ अशोक सिंह भदौरिया समेत 6 पुलिस वालो को सस्पेंड किया गया है अब पुरे मामले की जांच लखनऊ की क्राइम ब्रांच करेगी।

नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने पूछ UP में ये किया हो रहा है

शनिवार को योगी आदित्यनाथ दिल्ली में इन दोनों से मिले तभी नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने प्रदेश के ताजे हालात पर चिंता जाहिर की इससे पहले संघ के दो वरिष्ठ पदाधिकारियों ने यूपी दौरा कर हालात की जानकारी उन्हें दी थी। और यूपी में लोकसभा की दो सीटों पर हुए उपचुनावों  में बीजेपी की हार और चार दलित सांसदों की और से योगी सरकार के प्रति अंसतोष जाहिर किये जाने की घटना को नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने बड़ी गंभीरता से लिया।

योगी आदित्यनाथ नहीं मिले सफाई देने गए MLA से।

सोमवार देर शाम तक सफाई देने गए आरोपी बीजेपी MLA विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने के लिए लेकिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बिना मिले ही उन्हें बैरंग भेज दिया। विधायक ने अपने खिलाफ इस मामले को एक साजिश करार दिया है।  विधायक कुलदीप सिंह सेंगर का कहना है की किसी के नाम लेने से इस्तीफा नहीं दिया जाता और पता चला है की UP के ग्रह विभाग से विधायक को क्लीन चित मिल चुकी है क्योंकि 164 के बयान में महिला ने विधाया का नाम नहीं लिया था